वो नंगे पाँव बारिश में दोनो हाथ फैलाए मस्ती में भीगता हुआ घर जा रहा था.... . . . और मैं ऐसा चाह कर भी नहीँ कर पाया क्योंकि . मेरी जेब में महंगा मोबाइल , कुछ नोट,हाथ में ब्राण्डेड वॉच और पैरों मैं लेदर शुज थे.. समझ नहीँ आ रहा है कि अमीरी मुझे सुख दे रही है या फकीरी उसको..??

Radio Jockey India | Indian Actor | Event Host | Columnist | Lecturer | Creative Director of Innovative Ideas

वो नंगे पाँव बारिश में दोनो हाथ फैलाए मस्ती में भीगता हुआ घर जा रहा था.... . . . और मैं ऐसा चाह कर भी नहीँ कर पाया क्योंकि . मेरी जेब में महंगा मोबाइल , कुछ नोट,हाथ में ब्राण्डेड वॉच और पैरों मैं लेदर शुज थे.. समझ नहीँ आ रहा है कि अमीरी मुझे सुख दे रही है या फकीरी उसको..??

Let's Connect

sm2p0